Smart Money मैनेजमेंट टिप्स हिन्दी में

Smart Money मैनेजमेंट टिप्स हिन्दी में

Smart Money मैनेजमेंट टिप्स हिन्दी में
- लोग अलग अलग तरीकों से पैसा कमाना चाहते हैं, कोई जॉब हो या बिसनेस फिर भी क्या आपको महीने के अन्त में पैसे की प्रोब्लम होती हैं? तो इस artical में आप स्मार्ट तरीके से पैसे को मैनेजमेंट कैसे करे ये जानेंगे। स्मार्ट मनी मैनेजमेंट हिन्दी में। क्या आप भविष्य में रूपयो की बचत कर पाते हैं, आप पैसे भी कमाते है फिर भी पैसे की समस्या बनी रहती हैं, और आपके मस्तिष्क में विचार आता है की आप बहुत ज्यादा पैसे नही कमा सकते। लेकिन एक कमी रह जाती हैं की आप पैसों को प्रबंधित नही कर पाते हैं। 

आपको पैसे को सही बचत के लिए money manegement को समझना होगा, अर्थात आप पैसों को कितना किस सामान या अन्य जरूरतों में खर्च कर ते हैं। मनी मैनेजमेंट एक ऐसा तरीका जिससे आपको न तो वर्तमान में और न भविष्य में पैसे की समस्या आती हैं। इससे आप पैसों को सही तरीके से खर्च रूपयो को सही तरीके से प्रबंधित कर सकते हैं।

आपने शहरो में मार्केट में या सड़को के अगल बगल ऐसे व्यक्ति देखे होंगे जो डेले पर काफी भीड़ रहती हैं, और वो कितना पैसा कमाते हैं इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता, फिर भी उनमें से 98% लोग ऐसे ही रहते हैं नही उनका लाइफ स्टाइल बदलता है। उसका कारण मनी मैनेजमेंट का नही होना है। इतने पैसे कमाने के बाद भी पैसे की कमी बनी रहती हैं।

आप अपनी जिंदगी की दैनिक जरुरत को तो पूरा कर लेते हैं, लेकिन अचानक सामने आने वाले खर्चों से आप घबरा जाते हैं, पैसे की समस्या बनी रहती है। आपकी आय कितनी भी बढ़ जाए, लेकिन अगर पैसों का सही तरीके से प्रबंधित नही होने से हमेशा पैसों कि कमी बनी रहती हैं।
 

पैसों को मैनेजमेंट करने के कुछ महत्वपूर्ण बिन्दु


1. अपनी होने वाली कमाई व खर्चे का पूरा डाटा तैयार करें।

2. अपने फालतू खर्चों को कम करे।

3. आवश्यक खर्चों की list तैयार करे।

4. आय के अनुसार खर्च करे ।

5. जिन खर्चों को कम करके बचत की जा सके उन्हें करें ।

6. अपने अलग से कर्ज के लिए many Manegement करे।

7. भविष्य मैं अचानक आने वाली खर्चों के लिय पहले ही मनी मैनेजमेंट को ध्यान में रखें।

8. ये बात ध्यान रखें की छोटी छोटी बचत से बड़ी आय बनती हैं।

कुछ और महत्वपूर्ण बिन्दु जो अति आवश्यक है -


1. खर्च से ज्यादा saving पर ध्यान दे।

2. पैसों को घर में रखने से अच्छा हैं उनका निवेश करे उन्हें बैंक में एफडी आदि करवाए।

3. पहले जो जरूरी खर्चा हैं उसे करे, फिर इच्छा से दूसरे पर खर्च करे।

4. अगर आप अपने व्यवसाय के लिए कर्ज लेते हैं, तो अपने व्यवसाय में से ही लोन का खर्च निकाले।

5. ऋण तभी ले जब आप उसे चुकाने में मनी मैनेजमेंट करे।

कुछ मनी मैनेजमेंट के comman तरीके


1. अगर आपकी आय बढ़ जाए तो, आय को बढ़ाकर बचत करें।

2. अगर आपने लोन लिया है तो खर्चे को नियंत्रित करें, और पहले लोन चुकाए।

3. भविष्य में होने वाले खर्चों को ध्यान में रखते हुए जैसे पढ़ाई, शादी आदि के अकॉर्डिंग खर्च करे।

इस तरह आप मनी मैनेजमेंट को समझकर अपनी आय को नियंत्रित कर सकते हैं और वर्द्धी भी कर सकते है। इसके लिऐ आपको एक किताब बनानी होगी जिसमे आप अपनी मासिक , दैनिक खर्च को लिखकर अपने व्यर्थ के खर्च को कंट्रोल कर सकते है और भविष्य में आने वाले खर्चों पर काबू कर सकते हैं। इसलिय मनी मैनेजमेंट की दैनिक जीवन में जरूरत बड़ी हैं।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ